जोधपुर से किसानों के लिए अच्छी खबर..... तिलहन में तेल बताने वाली मशीन लगी

जोधपुर से किसानों के लिए अच्छी खबर..... तिलहन में तेल बताने वाली मशीन लगी


 


 


अब मशीन बताएगी तिल में कितना है तेल, किसानों को मिलेगा उपज का सही दाम


 जोधपुर


भगत की कोठी कृषि उपज मंडी में कृषि जिंसों को लेकर आने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है। कृषि उपज मंडी प्रशासन ने किसान को कृषि पैदावार का उचित मूल्य दिलाने के लिए मंडी में कृषि जिंस टेस्टिंग मशीन लगाई है। इससे किसान को उसकी पैदावार का अच्छा मूल्य मिल सकेगा। साथ ही व्यापारी को किसान के माल के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।


कृषि मंडी सचिव दुर्गाराम जाखड़ ने बताया कि कृषि उपज मंडी समिति अनाज भगत की कोठी जोधपुर में राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना (ई नाम) के तहत कृषि जिंसों की टेस्टिंग मशीन का शुभारंभ शुक्रवार को जोधपुर खाद्य पदार्थ व्यापार संघ के अध्यक्ष प्रकाश चंद मेहता द्वारा कृषि जिंस तिलहन फसल के सैंपल टेस्टिंग के लिए मशीन में डालकर शुभारंभ किया गया।


यह मिलेगा किसानों को फायदा
मंडी में आने वाले माल को बिना जांच किए ही भाव के आधार पर बेचा जाता था। लेकिन ऑयल टेस्टिंग मशीन से जांच के बाद किसान को उसकी पैदावार की गुणवत्ता की जानकारी तो मिलेगी साथ ही अच्छी गुणवत्ता है तो उसे भाव भी अच्छा मिलेगा।


इसके अलावा व्यापारी को जांच के बाद गुणवत्ता का माल मिलेगा। इन्होंने बताया कि अनाज की टेस्टिंग भी प्रांगण में ही उपलब्ध हो सकेगी जिससे किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य मिल सकेगा एंव व्यापारियों को अच्छी गुणवत्ता वाली कृषि जिंस खरीदने का मौका भी मिल पाएगा।


किसानों के लिए खुलेगा वैश्विक बाजार
एडवांस टेक्नोलॉजी वाली इस मशीन की कुल कीमत 13.65 लाख है। राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना का मकसद किसानों को मंडियों से निकालकर उनके लिए वैश्विक बाजार खोलना है ताकि उन्हें फसल का उचित दाम मिले। इसके लिए ई ऑक्शन शुरू किया गया है। ई ऑक्शन में जरूरी है कि दूर बैठे व्यापारियों को वहीं से यहां के किसान के अनाज,तिलहन की क्वालिटी स्क्रीन पर पता चल जाए।


1 मिनट में पता चल जाएगा कितना तेल
ऑयल टेस्टिंग मशीन के द्वारा थोड़े समय में ही कृषि जिंसों की गुणवत्ता की रिपोर्ट बता देगी कि तिलों में कितना तेल है। गेंहू, बाजारा, धान आदि के दानों में कितनी टूट फूट है। दागी ,नमी प्रोटीन, ग्लूकोटिन कितना है देश में कहीं का भी व्यापारी यहां के किसान का अनाज खरीद सकेंगे।


जिससे कि किसानों को फसल की अच्छी कीमत मिल सकेगी। मंडियों में आने वाले किसान निशुल्क ही अपनी कृषि जिंसों की टेस्टिंग करा सकेंगे। इस रिपोर्ट से कृषि जिंसों की क्वालिटी के अनुसार दाम मिलेगा। व्यापारियों को बोली लगाने में भी मदद मिलेगी।


दो सौ ग्राम का सैंपल डालेंगे


अपग्रेड मशीन में दो सौ ग्राम का सेम्पल डाला जाएगा। तिलहन बीज में तेल और नमी की प्रतिशत मात्रा कितनी है। वर्तमान में मंडी स्तर पर नॉन अपग्रेड मशीन पर तिलहन की क्वालिटी की जांच की जाती है। कई बार सिर्फ अनुमान के आधार पर ही यह तय किया जाता है कि तिलहन कृषि जिंस में तेल की मात्रा कितनी है। इससे किसानों को कम ज्यादा भाव मिलते हैं। किसानों के मन में भी संशय की स्थिति रहती है लेकिन अब अपग्रेड मशीन के जरिए किसानों की इस समस्या का समाधान किया जा रहा है।


 


Popular posts